ALL राजनीति खेल अपराध मनोरंजन कृषि विज्ञान राज्य योजनाएं धर्म देश - विदेश
प्रवासी मजदुर ने मांगा भोजन तो आईएएस ने कहा कूद जाइये ट्रेन से 
May 29, 2020 • छोटा अखबार • देश - विदेश

प्रवासी मजदुर ने मांगा भोजन तो आईएएस ने कहा कूद जाइये ट्रेन से 

छोटा अखबार।

प्रवासी मजदूर ने एपी सिंह को कहा हम लोग झारखंड के प्रवासी मजदूर बोल रहे हैं। स्पेशल ट्रेन से वापस आ रहे हैं सर, सुबह से खाना नहीं मिला है, भूख से परेशान हो गए हैं हम लोग। तो एपी सिंह बोले अच्छा, खाना रेलवे को देना है, रेलवे देगा खाना। मजदूर ने फिर कहा तो कब देगा सर, सुबह में खाली एक पैकेट ब्रेड, एक केला और एक बोतल पानी दिया है, उसी में दिन भर काटना पड़ रहा है सर, कैसे क्या करें। फिर एपी सिंह बोले कूद जाइये वहां से,और क्या करिएगा।

देश में जारी लोकडाउन से परेशानियां झेल रहे प्रवासी मजदूरों का घर वापसी का दौर जारी है। विभिन्न क्षेत्रों में फंसे हुए प्रवासी मजदूरों की पीड़ा पर संज्ञान लेते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने गुरुवार को इस मामले में महत्वपूर्ण आदेश दिये है। कोर्ट ने कहा कि ट्रेन या बस से यात्रा करने वाले किसी भी प्रवासी मजदूर से किराया नहीं लिया जाएगा। उसे रेलवे और राज्य सरकारें आपस में वहन करें। जब तक लोग ट्रेन या बस के लिए इंतजार कर रहे होंगे उस दौरान संबंधित राज्य या केंद्रशासित प्रदेश उन्हें भोजन मुहैया कराएं। इसके अलावा जहां से ट्रेन रवाना होगी वो राज्य यात्रियों को भोजन—पानी देंगे। यात्रियों को यात्रा के दौरान ट्रेन में रेलवे भोजन-पानी देगा। बस में भी यात्रियों को खाद्य एवं पेय पदार्थ दिए जाएंगे। लेकिन झारखंड कैडर के आईएएस ने कोर्ट के आदेशों की अवहेलाना ही नही की बल्कि मानवता को भी शर्मसार किया है।


मामला झारखंड सरकार का है। झारखंड की ओर से प्रवासी मजदूरों को लौटने के लिए एक व्यवस्था बनाई गई है। व्यवस्था को वहां के वरिष्ठ आईएएस एपी सिंह देख रहे हैं। सिंह को सरकार ने झारखंड का नोडल अधिकारी बनाया है। दूसरे राज्यों में फंसे झारखंड के मजदूर अपने राज्य वापस आ रहे हैं। आंकडो के अनुसार अब तक करीब तीन लाख प्रवासी मजदूर वापस आ चुके हैं। ट्रेन से यात्रा कर रहे मजदुर ने जब नौडल धिकारी एपी सिंह को ट्रेन में भोजन नहीं मिलने की शिकायत की तो सिंह ने कहा, तो कूद जाओ ट्रेन से 
मजदुर और एपी सिंह की बात—चीत के कुछा अंश
प्रवासी मजदूर ने एपी सिंह को कहा हम लोग झारखंड के प्रवासी मजदूर बोल रहे हैं। स्पेशल ट्रेन से वापस आ रहे हैं सर, सुबह से खाना नहीं मिला है, भूख से परेशान हो गए हैं हम लोग। तो एपी सिंह बोले अच्छा, खाना रेलवे को देना है, रेलवे देगा खाना।
मजदूर ने फिर कहा तो कब देगा सर, सुबह में खाली एक पैकेट ब्रेड, एक केला और एक बोतल पानी दिया है, उसी में दिन भर काटना पड़ रहा है सर, कैसे क्या करें।
फिर एपी सिंह बोले कूद जाइये वहां से,और क्या करिएगा।