ALL राजनीति खेल अपराध मनोरंजन कृषि विज्ञान राज्य योजनाएं धर्म देश - विदेश
लोकतंत्र मजबूत है, मजबूर नहीं — ममता बनर्जी 
December 21, 2019 • छोटा अखबार • राजनीति

लोकतंत्र मजबूत है, मजबूर नहीं — ममता बनर्जी 

छोटा अखबार।
पश्चिम बंगाल में नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ प्रदर्शन में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने  
कहा कि लोकतंत्र मजबूत है, मजबूर नहीं। हम क्या खाना खाएंगे यह भी बीजेपी तय कर रही है। एयर इंडिया में आज से पहले कभी ऐसा नहीं था, अब सिर्फ़ शाकाहारी खाना मिलता है। वक्त आ गया है, हिंदुस्तान का लोकतंत्र मजबूत है, मजबूर नहीं। हिंदुस्तान रहेगा हर आदमी एक साथ काम करेगा। अगर हिंदुस्तान का हर प्रांत एक साथ हो जाए बीजेपी कितने लोगों को जेल में भरेगी। यूपी में जब कल किसी की गोली में मौत हो गई तो यूपी के मुख्यमंत्री बोलते हैं कि और गोली मारना चाहिए। इन्हें शर्म नहीं है।बनर्जी ने कहा कि प्याज़ का भाव दो सौ रुपये है। बेरोज़गारी बढ़ रहा है। इंडस्ट्री बंद हो रहे हैं। रुपये की कीमत गिर रही है, लेकिन सरकार सबको छुपाने के लिए एक बिल लेकर आ गई है। जो भी इसके ख़िलाफ़ आवाज़ उठा रहा है उसे वो देशद्रोही बोल दे रहे हैं। ऐसा करने वाले आप कौन हैं? आज़ादी के समय बीजेपी नहीं थी फिर वो कैसे यह तय कर सकती है कि कौन देश का नागरिक रहेगा और कौन नहीं। आपकी पार्टी का जन्म 1980 में हुआ था। आप गांधी, नेहरू,  पटेल, आज़ाद, भगत सिंह और सुभाष चंद्र बोस के साथ नहीं थे। आप पांच साल सत्ता में रहने के बाद यह तय करेंगे कि कौन नागरिक रहेगा और कौन नहीं।


पूर्वोत्तर राज्य बिहार, दिल्ली, यूपी सब जल रहा है। कभी लट्टू, कबड्डी, फ़ुटबॉल नहीं खेला और बीजेपी बड़ा खिलाड़ी बन गई। बीजेपी को कोई नहीं चाहता है। 38 फ़ीसदी वोट मिला 62 फ़ीसदी ख़िलाफ़ है। एक नागरिक के तौर पर हम पूछें कि आप कौन हैं, हमें हमारी मां का जन्मप्रमाण पत्र देना पड़ा तो आपको भी देना पड़ेगा। आप यह तय कर लें कि आपके पास सब प्रमाणपत्र हैं या नहीं? हम हमारी मां का प्रमाणपत्र नहीं दे सकेंगे। क्या हम गुजरात, यूपी में छानबीन करें? त्रिपुरा में नहीं करोगे, आपकी सरकार है। असम में कुछ बोलते हैं, कुछ और करते हैं। 

आपके आस—पास हो रही किसी भी घटना के समाचार, फोटो और वीडियो हमें भेजे। ई—मेल या वॉट्सएप नम्बर—9414816824 पर! आपकी खबरों को दिखाया जायेगा।
हमारे इतिहासकार रामचंद्र गुहा गांधी की तस्वीर लेकर निकले थे, उनकी बेइज्ज़ती की गई। इनको शर्म नहीं आती। अटल बिहारी वाजपेयी राजधर्म की बात करते थे। आप देश की सत्ता पर बैठे हैं और देश में आग लग रही है। आज राजधर्म का पालन नहीं करने वाले सत्ता में हैं। ये कहते हैं सबको हटा देंगे, सबको गोली मार देंगे। कितने लोगों को गोली मारेंगे? अगर इस आंदोलन के लिए कोई अन्याय हमने किया है तो आप हमें गोली मारें, आम लोगों को नहीं। हम एक साथ रहते हैं, एक साथ पर्व त्योहार मनाते हैं, उठते बैठते हैं।


देश की आज़ादी के वक्त गांधी जी ने हिंदू-मुसलमानों को शांत किया था। ये लोग डराते हैं, देश को जलाते हैं बदनाम करते हैं। देश को अशांत करते हैं एक फेंकू नेटवर्क बनाया गया है। उसमें बहुत रुपए देकर ग़लत वीडियो बनाते हैं आपको उकसाते हैं वो चाहते हैं कि एक धर्म को अलग से बना दो। हम नहीं होने देंगे। बीजेपी समझो, हमारा कोई भाई बहन अलग नहीं है। हम एक साथ लड़ेंगे, कामयाब होंगे। अगर बीजेपी ने नागरिकता संशोधन क़ानून को वापस नहीं लिया तो उसे जाना पड़ेगा।