ALL राजनीति खेल अपराध मनोरंजन कृषि विज्ञान राज्य योजनाएं धर्म देश - विदेश
जयपुर डिस्कॉम में खराब मीटर 31 अगस्त तक बदले जायेंगे —प्रबन्ध निदेशक
July 29, 2020 • छोटा अखबार • राज्य

जयपुर डिस्कॉम में खराब मीटर 31 अगस्त तक बदले जायेंगे —प्रबन्ध निदेशक               

छोटा अखबार।      
जयपुर डिस्कॉम के प्रबन्ध निदेशक ए.के.गुप्ता ने मंगलवार 28 जुलाई  को राजमीट वीसी प्लेटफार्म के माध्यम से जयपुर डिस्कॉम में चल रहे विभिन्न कार्यों एवं योजनाओं की समीक्षा की। राजमीट वीसी प्लेटफार्म के द्वारा आयोजित वर्चुवल वीडियो कान्फ्रेन्स में जयपुर डिस्कॉम के निदेशक वित्त, अति. पुलिस अधीक्षक (सतर्कता), संभागीय मुख्य अभियन्ता, अधीक्षण अभियन्ता, मुख्य लेखाधिकारी, अधिशाषी अभियन्ता, सहायक अभियन्ता, कनिष्ठ अभियन्ता व फीडर इंचार्ज सहित लगभग 5944 अधिकारी-कर्मचारी लाईव स्ट्रीम पर व 43 इन्टरएक्टिव रहे। 

जयपुर डिस्कॉम के प्रबन्ध निदेशक ने वर्चुवल मीटिंग के माध्यम से समीक्षा करते हुए कहा कि खराब मीटरों की वजह से उपभोक्ताओं को औसत उपभोग के आधार जारी किए जाने वाले बिलों के विवाद को समाप्त करने व वास्तविक रीडिंग का बिल जारी करने के लिए खराब मीटरों को बदलने पर मीटिंग में चर्चा की गई। वर्तमान में घरेलू श्रेणी में एक लाख 25 हजार 722 मीटर खराब चल रहे है, इनमें से भी 74 हजार मीटर 6 माह से अधिक अवधि से खराब हैं। इन सभी खराब मीटरों को 31 अगस्त तक बदलने के निर्देश दिए गए है। इसी प्रकार से औधोगिक कनेक्शनों के भी 2777 मीटर खराब हैं उन्हें भी 31 अगस्त तक बदलना है और यह कार्य विभागीय कर्मचारियों द्वारा ही किया जाएगा। उन्होंने कहा कि डिस्कॉम में 211 सब-डिवीजन है और प्रत्येक सब-डिवीजन में एक मीटर सेक्सन खोला जाएग जिसमें 2-3 तकनीकी कर्मचारी को लगाया जाएगा। इस सेक्शन में मीटर बदलने व नया मीटर लगाने तथा मीटर हटाने का पूरा रिकार्ड सब-डिवीजन स्तर पर रखा जाएगा। 

  मीटिंग के दौरान यह बताया गया कि लगभग 30 हजार उपभोक्ता ऎसे है जिनके डिफेक्टिव मीटर की वजह से 50 यूनिट से भी कम की औसत बिलिंग हो रही है। ऎसे मीटरों को तुरन्त बदलने के निर्देश दिए गए। साथ ही यह भी तय किया गया कि प्रति उपभोक्ता औसत उपभोग की मानिटरिंग सभी स्तर पर की जाए। सभी क्षेत्रों में समान रुप से विद्युत आपूर्ति हो रही है और उपभोग का पैटर्न एक होते हुए भी प्रतिमाह उपभोग में बहुत अन्तर होता है। इसके लिए कम उपभोग वाले उपभोक्ताओं को निगरानी में रखते हुए कारण पता करने के भी निर्देश दिए गए है।