ALL राजनीति खेल अपराध मनोरंजन कृषि विज्ञान राज्य योजनाएं धर्म देश - विदेश
देश में 10वीं बोर्ड खत्म, अब बोर्ड केवल 12वीं क्‍लास में
July 30, 2020 • छोटा अखबार • देश - विदेश

देश में 10वीं बोर्ड खत्म, अब बोर्ड केवल 12वीं क्‍लास में

छोटा अखबार।
केन्द्र सरकार ने 34 साल बाद शिक्षा नीति में बदलाव करते हुए नई शिक्षा नीति-2020 जारी कर दी है।नई शिक्षा नीति के अनुसार देश में अब 12वींं में ही बोर्ड की परीक्षा होगी। वहीं पहले 10वी बोर्ड की परीक्षा देना अनिवार्य होता था। अब स्कूली शिक्षा में 5+3+3+4 फॉर्मूले चलेगे, इसकेअनुसार ही 9वींं से 12वींं क्लास तक सेमेस्टर में परीक्षा होगी और पढ़ाया जाएगा।

दुसरी ओर कॉलेजों की डिग्रियों में भी बदलाव किया है। अब कॉलेज की डिग्री 3 और 4 साल की होगी, मतलब कि स्नातक के पहले साल में सर्टिफिकेट, दूसरे साल में डिप्‍लोमा और तीसरे साल में डिग्री मिलेगी। जिन छात्रों को उच्च शिक्षा में नहीं जाना है उनको 3 साल में डिग्री मिल जाएगी। लेकिन ​उच्च शिक्षा में जाने वाले छात्रों को 4 साल की डिग्री करनी होगी। इस प्रणाली में 4 साल वाले छात्रों को एक साल में एमए की डिग्री मिल सकेगी। दुसरी ओर उच्च शिक्षा में भी अब दसवीं बोर्ड की तरह एमफिल को खत्म कर दिया है और एमए के छात्र अब सीधे ही पीएचडी कर सकेंगे। 

देश में 5वीं तक अंग्रेजी माध्यम खत्म
नई शिक्षा नीति 2020 के निर्णय अनुसार अब 5वीं तक के छात्रों को मातृ भाषा, स्थानीय भाषा और राष्ट्र भाषा में ही पढ़ाया जाएगा। शेष विषयों में अंग्रेजी ही क्यों न हो। ऐसी स्थिति में एक विषय के अनुसार हि पढ़ाया जाएगा।

अब इस तरह का होगा 10+2 का नया कोर्स
नई शिक्षा नीति के अनुसार 10+2 के कोर्स को पूरी तरह खत्म कर दिया गया है। अब इसे 10+2 से खत्म कर 5+3+3+4 सांचे में ढाल दिया गया है। देश में अब स्कूल के पहले पांच साल में प्री-प्राइमरी स्कूल के तीन साल और कक्षा एक और कक्षा 2 सहित फाउंडेशन स्टेज शामिल होंगे। वहीं अगले तीन साल को कक्षा 3 से 5 की तैयारी में विभाजित किया जाएगा। फिर तीन साल मध्य चरण मतलब कक्षा 6 से 8 और माध्यमिक अवस्था के चार वर्ष यानि कक्षा 9 से 12। स्कूलों में कला, वाणिज्य, विज्ञान स्ट्रीम का कोई कठोर पालन नहीं होगा। छात्र अपनी ईच्छा के अनुसार अब जो भी पाठ्यक्रम चाहें, ले सकते हैं।