ALL राजनीति खेल अपराध मनोरंजन कृषि विज्ञान राज्य योजनाएं धर्म देश - विदेश
बच्चा चोरी की अफवाह पर भीड़ ने आदमी मारा
February 8, 2020 • छोटा अखबार • देश - विदेश

बच्चा चोरी की अफवाह पर भीड़ ने आदमी मारा

छोटा अखबार।
मध्य प्रदेश के धार जिले में बच्चा चोरी की अफवाह पर भीड़ के हमले में एक आदमी की मौत हो गई जबकि छह लोग घायल हो गए। इस मामले में पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। सरकार ने मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच के लिए पुलिस के विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है। इसके साथ ही मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में मनावर पुलिस थाना के नगर निरीक्षक सहित छह पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया।
बता दें कि धार जिले के मनावर क्षेत्र में मजदूरों से अपनी रकम वापस लेने आए इंदौर जिले के सात किसानों पर ग्रामीणों ने बुधवार को पत्थरों और लाठियों से हमला कर दिया था। जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि छह गंभीर रूप से घायल हो गए थे।


इन लोगों पर पत्थर और लाठियों से हमला किया गया। पुलिस ने इस मामले में तीन लोगों के खिलाफ नामजद और 10 से 12 अज्ञात आरोपियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करके तलाश शुरू कर दी है।
धार जिले के पुलिस अधीक्षक आदित्य प्रताप सिंह के अनुसार धार के बोरलाई में हुई भीड़ हिंसा की घटना के संबंध में तीन आरोपियों में गांव के सरपंच रमेश जूनापानी, सत्या तसल्या और गलियां भूरा को गिरफ्तार किया गया है। अधीक्षक ने कहा कि वीडियो फुटेज के आधार पर बाकी बचे आरोपियों की पहचान करने के प्रयास किए जा रहे हैं। एसपी ने बताया कि यह घटना जिला मुख्यालय से लगभग 65 किलोमीटर दूर हुई है। मृतक की पहचान इंदौर निवासी गणेश पटेल के तौर पर हुई है। हमले में छह लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं और उन्हें इंदौर के अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
उन्होंने बताया कि इस मामले में प्रथमदृष्टया कुछ पुलिसकर्मियों की लापरवाही सामने आई है। जिसके तहत मनावर थाने के टीआई सहित छह पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है। साथ ही भाजपा नेता समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है।


बताया जाता है कि रमेश जूनापानी भाजपा के स्थानीय नेता हैं। उन पर उस समूह का नेतृत्व करने का आरोप है, जिसने इलाके में बच्चा चोर सक्रिय होने की अफवाह फैलाई।
समाचार सूत्रों के अनुसार पीड़ित किसान मजदूरों को खेत में काम करवाने के लिए एडवांस में दिए गए ढाई लाख रुपये में से डेढ़ लाख रुपये वापस लेने यहां पहुंचे थे। बताया जा रहा है कि मजदूर इन किसानों से पैसे लेने के बावजूद काम करने नहीं पहुंचे थे।


वहीं, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने धार की घटना को लेकर भाजपा पर राजनीति करने का आरोप लगाया और कहा कि इस घटना में मुख्य आरोपी रमेश जूनापानी है। जो भाजपा नेता है और उसने ही भीड़ का नेतृत्व किया और हिंसा के लिए उकसाया। पुलिस ने इस मामले में उस पर मामला भी दर्ज किया है और उसे गिरफ्तार भी किया जा चुका है।